क्या आपके होंठों के पास झुनझुनाहट हो रही है? यह एक छाला हो सकता है| काफी बार छोटे-छोटे छाले का गुच्छा भी होता है|

मुंह के बाहर छाले निकलने को कोल्ड सोर कहा जता है| आम भाषा में इन्हें बुखार के छाले कहा जाता है| ये छाले मुख्य रूप से होंठ, नाक और ठुड्डी के पास निकलते हैं और इनमें दर्द भी होता है|

Advertisements

Contents

कोल्ड सोर के कारण

हर्पीस सिम्पलेक्स वायरस टाइप 1 (एचएसवी-1) के कारण कोल्ड सोर हो जाते हैं| अगर इन छालों से पानी बह रहा है, ये बहुत जल्दी फैलते हैं| यह सभव नहीं है कि हमेशा कोल्ड सोर के कारण ही वायरस हो| यह वायरस त्वचा से त्वचा में फैलता है तथा ओरल सेक्स से भी मुंह के आस-पास हर्पीस हो सकता है| [1]

शरीर में हार्मोनल परिवर्तन (विशेष रूप से मासिक धर्म के दौरान), बुखार, थकान, तनाव और अधिक देर धूप में रहने से भी यह वायरस हो जाता है, जिसके कारण कोल्ड सोर हो जाते हैं|

कोल्ड सोर से छुटकारा पाएँ

कोल्ड सोर के प्राकृतिक उपचार

आम तौर पर कोल्ड सोर एक सप्ताह में ही खत्म हो जाते हैं| जब ये छाले फूटते हैं, तो इनमें से पानी निकलता है और यह पानी त्वचा पर जम जाता है| ये छाले देखने में बहुत अजीब होते हैं और साथ-साथ इनमे दर्द भी होता है | एक दिन में कोल्ड सोर से छुटकारा नहीं पाया जा सकता है, इनके इलाज में थोड़ा-सा समय लग सकता है| [2]

Advertisements

आप कोल्ड सोर से होने वाली असहजता को कम करने के लिए कुछ आसान घरेलू उपचारों को अपना सकते हैं, जिससे मुंह के बाहर के छाले जल्दी खत्म हो जायेंगे और ये बार-बार फूटेंगे नहीं|

यहाँ कोल्ड सोर के उपचार के 10 तरीके बताये जा रहे हैं|

विधि 1: एसीटोन के इस्तेमाल से

घर पर कोल्ड सोर का इलाज करने के लिए एसीटोन या नेल पॉलिश रिमूवर एक प्रभावी घरेलू उपचार होता है|

आवश्यक सामग्री:

एसीटोन से कोल्ड सोर खत्म करने के लिए आवश्यक सामग्री

  • एसीटोन (नेल पॉलिश रिमूवर)
  • रुई  (कॉटन स्वैब)

एसीटोन को कोल्ड सोर पर लगायें

कोल्ड सोर पर एसीटोन लगायें
कोल्ड सोर पर एसीटोन का इस्तेमाल कीजिये
  • एक कॉटन स्वैब में नेल पॉलिश रिमूवर ले लीजिये|
  • कोल्ड सोर से जल्द आराम पाने के लिए इसे कोल्ड सोर पर लगायें|

दिन में दो बार इस उपचार का इस्तेमाल करें, जब तक कि यह पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाता|

Advertisements
सावधानी: एसीटोन के इस्तेमाल के लिए हमेशा नेल पॉलिश रिमूवर का उपयोग करना चाहिए क्योंकि इसमें एसीटोन की मात्रा कम होती है| अपना मुंह बंद करके इसे लगायें क्योंकि इससे त्वचा में जलन हो सकती है| अगर आपकी त्वचा में जलन होती है, तो तुरंत सादे पानी से धो लें|

विधि 2: हाइड्रोजन परॉक्साइड का उपयोग करके

हाइड्रोजन परॉक्साइड में एंटीसेप्टिक और एंटीवायरल गुण पाए जाते हैं, जो सूजन को खत्म करके कोल्ड सोर (वायरल इन्फेक्शन) से आराम दिलाते हैं| यह छालों को सुखाकर कीटाणुओं को खत्म कर देता है| आपको 3% फ़ूड ग्रेड हाइड्रोजन परॉक्साइड का ही इस्तेमाल करना चाहिए| [3]

आवश्यक सामग्री:

हाइड्रोजन परॉक्साइड के इस्तेमाल के लिए आवश्यक सामग्री

  • 3% फ़ूड ग्रेड हाइड्रोजन परॉक्साइड

हाइड्रोजन परॉक्साइड को कोल्ड सोर पर लगाइए

कोल्ड सोर पर हाइड्रोजन परॉक्साइड लगाइए
कोल्ड सोर के इलाज के लिए हाइड्रोजन परॉक्साइड का इस्तेमाल कीजिये
  • रुई (कॉटन स्वैब) में 3% फ़ूड ग्रेड हाइड्रोजन परॉक्साइड ले लीजिये|
  • कोल्ड सुर से तुरंत आराम पाने के लिए इसे पांच मिनट तक छालों पर लगा लीजिये|
  • फिर चेहरे को ठण्डे पानी से धो लीजिये|

जब तक आपको मनचाहे परिणाम नहीं मिल जाते, तब तक दिन में दो बार 3% फ़ूड ग्रेड हाइड्रोजन परॉक्साइड का इस्तेमाल कीजिये|

Advertisements

हाइड्रोजन परॉक्साइड के उपयोग से आपकी त्वचा में जलन हो सकती है, लेकिन यह सामान्य होता है| आपको घबराने की जरूरत नहीं है| यह जलन जल्द ही खत्म हो जाती है|

सावधानी: हाइड्रोजन परॉक्साइड केवल बाह्य इस्तेमाल के लिए होता है| आपको इसका सेवन नहीं करना है|

विधि 3: एल-लाइसिन के सेवन से

एल-लाइसिन एक अमीनो अम्ल  होता है, जो हर्पीस सिम्पलेक्स वायरस के कारण होने वाले कोल्ड सोर को खत्म करता है| यह वायरल इन्फेक्शन को कम करने, इसे फैलने से रोकने में सहायक है|

 एल-लाइसिन का प्रयोग कीजिये
कोल्ड सोर के उपचार के लिए एल-लाइसिन का इस्तेमाल कीजिये

एल-लाइसिन से त्वचा को कोई नुकसान नहीं होता है, लेकिन इसके अतिरिक्त सेवन से आपका शरीर कैल्शियम को अधिक तेजी से ग्रहण करने लगता है और यह आपके स्वास्थ्य को प्रभावित करता है| इसलिए अगर आप कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित हैं या आपको ट्राइ ग्लिसराइड की समस्या है, तो आपको एल-लाइसिन के सेवन से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लेनी चाहिए|

  • हम आपको कोल्ड सोर से निजात पाने के लिए दिन में तीन बार 1000 mg के एल-लाइसिन के सेवन की सलाह देते हैं|
  • आप एल-लाइसिन युक्त सब्जियों; जैसे फलियाँ, डेयरी उत्पाद, मछली, पेरू पक्षी और चिकन का सेवन भी कर सकते हैं|

विधि 4: हैण्ड सेनीटाइजर का प्रयोग करके

हैण्ड सेनीटाइजर वायरस को खत्म करके कोल्ड सोर से आराम दिलाता है| यह छालों को जल्दी से सुखा देता है|

छालों पर प्रतिदिन हैण्ड सेनीटाइजर लगाइए

हैण्ड सेनीटाइजर का इस्तेमाल कीजिए
हैण्ड सेनीटाइजर के इस्तेमाल से छाले जल्दी ठीक हो जाते हैं|
  • रुई में थोड़ा-सा हैण्ड सेनीटाइजर लीजिये|
  • वायरस को फैलने से रोकने के लिए इसे छालों पर लगाइए|

जब तक कोल्ड सोर पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाते, प्रतिदिन दो बार हैण्ड सेनीटाइजर का इस्तेमाल कीजिये|

विधि 5: स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) का इस्तेमाल करके

स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) कोल्ड सोर को सुखाकर जल्दी से ठीक कर देता है| यह बैक्टीरिया को फैलने से भी रोकता है, जिससे छाले फूटते नहीं हैं| इसके लिए आप 70% स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) का ही इस्तेमाल करें|

Advertisements

आवश्यक सामग्री:

स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) के इस्तेमाल के लिए आवश्यक सामग्री

  • स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) (छालों को सुखा देता है)

स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) को छालों पर लगाइए

छालों पर स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) लगाइए
छालों पर स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) का इस्तेमाल कीजिये|
  • रुई (कॉटन स्वैब) की सहायता से थोड़े-से स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) को छालों पर लगायें|
  • ध्यान दीजिये कि आप 70% स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) का ही उपयोग कर रहे हों| यह दवा की दुकानों में आसानी से मिल जाता है|

जब तक छाले ठीक नहीं हो जाते, आप दिन में दो बार स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) का इस्तेमाल करिये|

विधि 6: टी ट्री ऑयल के उपयोग से

टी ट्री ऑयल एक अच्छा एंटीसेप्टिक होता है| इसमें एंटीफंगल और एंटीबायोटिक गुण पाए जाते हैं, जो कोल्ड सोर के उपचार में सहायक हैं| [4]

आवश्यक सामग्री:

टी ट्री ऑयल के इस्तेमाल के लिए आवश्यक सामग्री

  • टी ट्री ऑयल (छालों को जल्दी ठीक करता है)

टी ट्री ऑयल को कोल्ड सोर पर लगाइए

टी ट्री ऑयल का उपयोग कीजिये
टी ट्री ऑयल से कोल्ड सोर को खत्म कीजिये
  • रुई (कॉटन स्वैब) में थोड़ा-सा टी ट्री ऑयल ले लीजिये|
  • इसे छालों पर लगाइए|
  • आपकी त्वचा इस तेल को ग्रहण कर लेगी|

कोल्ड सोर ठीक होने तक दिन में दो बार टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल कीजिये|

सावधानी: अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है, तो 1 चम्मच तेल (नारियल, जैतून, बादाम का तेल आदि) या पानी में 2-3 बूंद टी ट्री तेल को मिला कर लगाएं|

विधि 7: पेपरमिंट ऑयल के प्रयोग से

पेपरमिंट ऑयल में एंटीवायरल घटक पाए जाते हैं, जो एचएसवी-1 और एचएसवी-2 को खत्म करने में सहायक हैं| एचएसवी-1 और एचएसवी-2 वायरस ही कोल्ड सोर होने का कारण होते हैं|

आवश्यक सामग्री:

पेपरमिंट ऑयल के इस्तेमाल के लिए आवश्यक सामग्री

  • पेपरमिंट ऑयल (प्राकृतिक रूप से रोगाणुओं को खत्म करता है)

छालों पर पेपरमिंट ऑयल लगाइए

पेपरमिंट ऑयल को छालों पर लगाइए
पेपरमिंट ऑयल से छालों को ठीक कीजिये|
  • सबसे पहले सादे पानी से चेहरा धो लीजिये|
  • रुई (कॉटन स्वैब) में थोड़ा-सा पेपरमिंट ऑयल ले लीजिये|
  • इसे छालों पर लगाइए|

कोल्ड से पूरी तरह से छुटकारा पाने तक दिन में दो बार पेपरमिंट ऑयल को छालों पर लगाइए|

विधि 8: सेब के सिरके द्वारा

कोल्ड सोर को ठीक करने के लिए सेब का सिरका एक प्राचीन घरेलू नुस्खा है| इसके एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण कोल्ड सोर के वायरस को खत्म करने में सहायक हैं| सेब का सिरका छालों को सुखा देता है और त्वचा के pH स्तर को भी संतुलित रखता है|

कोल्ड सोर पर सेब का सिरका लगाइए

सेब के सिरके को कोल्ड सोर पर लगाइए
सेब के सिरके से छालों का इलाज कीजिय|
  • रुई में सेब का सिरका ले लीजिए|
  • तुरंत आराम पाने के लिए इसे छालों पर लगाइए|
  • इसे 15 मिनट तक ऐसे ही लगा रहने दें|

आपको सेब के सिरके के इस्तेमाल से त्वचा में चुभन का अहसास हो सकता है, लेकिन आपको घबराने की जरूरत नहीं है| यह चुभन धीरे-धीरे कम होती जायेगी|

Advertisements

बेहतर परिणामों के लिए आप सेब के सिरके में थोड़ा-सा नींबू का रस मिलाकर इस्तेमाल कर सकते हैं|

कुछ दिनों तक दिन में तीन बार सेब के सिरके का इस्तेमाल कीजिये|

विधि 9: ठंडा सेंक (आइस कंप्रेस) द्वारा

कोल्ड सोर से आराम पाने के लिए ठंडा सेंक (आइस कंप्रेस) का इस्तेमाल एक बेहतर तरीका होता है| इसके इस्तेमाल से वायरस के फैलने के कारण छालों की सूजन, खुजली और चुभन से राहत मिलती है|

बर्फ को कपड़े में लपेटकर इस्तेमाल कीजिये

ठंडा सेंक (आइस कंप्रेस) का इस्तेमाल कीजिये
ठंडा सेंक (आइस कंप्रेस) छालों को खत्म करने में काफी सहायक है
  • आइस ट्रे से दो से तीन बर्फ के टुकड़े निकालकर एक रुमाल या सूत कपड़े में रख लीजिये|
  • कपड़े के चारों किनारों को पकड़कर बंडल बना लीजिये|
  • तैयार ठंडा सेंक (आइस कंप्रेस)  को छालों पर लगाइए|
  • आइस पैक को पांच मिनट से अधिक देर तक एक ही जगह पर न रखें|

आप दिन में तीन बार आइस कंप्रेस का उपयोग कर सकते हैं| अगर आप चाहें तो अन्य तरीकों से भी ठंडा सेंक (आइस कंप्रेस) बनाकर इस्तेमाल कर सकते हैं|

विधि 10: लहसुन का इस्तेमाल करके

लहसुन में क्योलिक यौगिक पाया जाता है| इस यौगिक में एंटीवायरल गुण पाए जाते हैं, जो छालों की सूजन कम करने में सहायक हैं|

लहसुन को पीसकर छालों पर लगायें

छालों पर लहसुन का इस्तेमाल करें
लहसुन के इस्तमाल से छले तुरंत ठीक हो जाते हैं|
  • लहसुन की कुछ फांकियों को छीलकर पीस लें|
  • इसे छालों पर लगायें| लहसुन छालों की सूजन को तुरंत कम कर देता है|
  • इसे पांच से दस मिनट तक ऐसे ही लगा  रहने दें| फिर सादे पानी से चेहरा धो लें|

एक सप्ताह तक दिन में कम से कम दो बार लहसुन का इस्तेमाल करें| अथवा आप लहसुन की एक फांकी को छीलकर, बीच से काटकर छालों पर पांच से दस मिनट तक लगा सकते हैं|

सुझाव

  • कोल्ड सोर से छुटकारा पाने के लिए विटामिन-ई और सी युक्त भोजन करें| विटामिन-ई छालों के दर्द और असहजता को कम करता है तथा विटामिन-सी शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बनाता है| बेरीज, टमाटर, ब्रोकली, पालक, सूखे मेवे, साबुत अनाज, एवोकाडो और हरे पत्तेदार सब्जियों में ये विटामिन अधिक मात्र में पाए जाते हैं|
  • उच्च ग्लाइसेमिक भोजन; जैसे आलू, ब्रेड और पास्ता आदि का सेवन कम करके शरीर के pH स्तर को कम किया जा सकता है|
  • यह ध्यान रखिये कि आप क्षारी खनिज तत्वों; जैसे मैग्नीशियम,कैल्शियम और पोटैशियम का पर्याप्त मात्रा में सेवन कर रहे हैं|
  • फ्रक्टोज और प्रोसेस्ड चीनी; जैसे डिब्बाबंद पेय आदि का सेवन कम करें|
  • बार-बार कोल्ड सोर होने का सबसे बड़ा कारण तनाव लेना है| इसलिए जितना संभव हो तनाव न लें|

प्रमाण:

  1. Herpes Simplex | Genital Herpes | Herpes Simplex 1. MedlinePlus. https://medlineplus.gov/herpessimplex.html. Published November 2, 2018.
  2. Fatahzadeh M, Schwartz RA. Human herpes simplex virus infections: epidemiology, pathogenesis, symptomatology, diagnosis, and management. Journal of American Academy of Dermatology. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/17939933. Published November 2007.
  3. Hayashi K, Hooper LC, Detrick B, Hooks JJ. Hydrogen Peroxide and Myeloperoxidase Released From Activated Neutrophils (pmn) Inhibit HSV-1 Growth. Investigative Ophthalmology & Visual Science. https://iovs.arvojournals.org/article.aspx?articleid=2372501. Published April 17, 2010.
  4. Carson CF, Hammer KA, Riley TV. Melaleuca alternifolia (Tea Tree) Oil: a Review of ... Clinical Microbiology Review. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC1360273/. Published January 2006.
Advertisements