कब्ज होना एक बहुत आम-सी बात है| कब्ज के साथ पूरा दिन बिताना कितना मुश्किल हो जाता है| कब्ज होने का मुख्य कारण आपकी जीवनशैली और खान-पान की आदतें हैं| कब्ज होने पर दवाएं लेने से बेहतर है कि आप घरेलू नुस्खों का प्रयोग करें| इन नुस्खों से आप प्राकृतिक तरीके से कब्ज से छुटकारा पा सकते हैं|

पेट में खालीपन की वजह से आँतों में ऐंठन होने लगती है, जिससे कब्ज की शिकायत हो जाती है और मलत्याग में भी कठिनाई होती है| मलत्याग में कठिनाई होने पर पेट में अक्सर दर्द बना रहता है, गैस की समस्या रहती है और पेट फूला-फूला लगता है|

Advertisements

आम तौर आपको एक दिन में एक बार मलत्याग अवश्य करना चाहिए| यदि आप पूरी तरह से स्वस्थ हैं, तो आप दिन में दो या तीन बार भी मलत्याग कर सकते हैं|

कब्ज से छुटकारा पाने के रामबाण नुस्खे

जो आपको खाने में अच्छा लगता है, जरूरी नहीं कि वह आपके पाचन तंत्र के लिए भी अच्छा हो| कई बार खाना खाने के बाद भी आपका पेट नहीं भरता है और इसके फलस्वरुप आपको कब्ज की शिकायत रहती है|

अधिक समय तक कुर्सी पर बैठे रहना, कैफीनयुक्त पदार्थों का सेवन, देर रात तक काम करना, कम नींद लेना भी कब्ज होने के कारणों में से एक हो सकते हैं| इसके लिए आप कुछ सामान्य व्यायाम भी कर सकते हैं|

Advertisements

कारण चाहे जो भी हो, अब आप नैचुरल तरीकों से कब्ज से छुटकारा पा सकते हैं| लेकिन कब्ज से दूर रहने के लिए आपको अपने खान-पान की आदतों में सुधार करने की जरूरत है|

यहाँ हम नैचुरल तरीके से कब्ज से छुटकारा पाने के आठ रामबाण नुस्खों के बारे में बता रहे हैं|

विधि 1: नींबू-पानी का इस्तेमाल

गर्म पानी और नींबू का रस आपके पाचन तंत्र को संतुलन में रखता है| नींबू शरीर के खराब पदार्थों को भी बाहर निकालने का काम करता है|

आवश्यक सामग्री:

विधि 1. आवश्यक सामग्री

  • नींबू का ताजा रस – आधा नींबू
  • गर्म पानी – एक कप (250 ml/मिली0)

नींबू के रस को गरम पानी मे मिलाये

• एक कप गर्म पानी में आधे नींबू का रस मिलाये

Advertisements
  • एक कप गर्म पानी में आधे नींबू का रस मिलाकर सोने से पहले और सुबह उठने के तुरंत बाद इसका सेवन करें|

कब्ज से छुटकारा पाने के इस रामबाण नुस्खे को दिन में दो बार पिएं|

दिन में दो बार नींबू-पानी का सेवन कीजिये
कब्ज मिटाने के लिए नींबू-पानी का सेवन करें

विधि 2: शहद के पानी का इस्तेमाल

कई सालों से शहद को एक कोमल व सुरक्षित लैक्सेटिव की तरह उपयोग किया जाता रहा है| शहद के सेवन से आपको मलत्याग में कोई कठिनाई नहीं होगी|

शहद में अत्यधिक मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो पाचन तंत्र की रक्षा करते हैं व इसे मजबूत बनाते हैं| शहद और गर्म पानी आँतों के मार्ग को बेहतर बनाकर कब्ज से निजात दिलाते हैं|

आवश्यक सामग्री:

Advertisements

विधि 2. आवश्यक सामग्री

  • शहद – एक छोटा चम्मच
  • गर्म पानी – एक गिलास

गर्म पानी में शहद डालिए

गर्म पानी में शहद मिलाइए

  • एक गिलास गर्म पानी में एक छोटा चम्मच शहद मिलाइए और इसे धीरे-धीरे चलाइये|

शुद्ध शहद (रॉ-हनी) के इस्तेमाल से आपको बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे|

कब्ज से राहत पाने के लिए दिन में दो बार – सोने से पहले और जागने के तुरंत बाद शहद का पानी पीजिये|

शहद का पानी पीजिये|
मुंहासों के रामबाण इलाज के लिए गर्म पानी में शहद का सेवन करें

विधि 3: अलसी का इस्तेमाल

विटामिन, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम और ओमेगा-3 वसीय अम्लों के साथ-साथ अलसी में बहुत अधिक मात्रा में फाइबर भी पाया जाता है| अलसी; कब्ज व पेटदर्द से निजात दिलाने में सहायक होती है|

अलसी में पाया जाने वाला तेल; कब्ज के लिए काफी फायदेमंद होता है| यह आँतों के भीतरी भाग में एक सुरक्षा कवच तैयार करता है और मलत्याग को सामान्य बनाता है|

Advertisements

साबुत अलसी से अधिक लाभ नहीं मिलता है क्योंकि साबुत बीजों के सेवन से आपका शरीर इन्हें साबुत ही बाहर निकाल देगा| केवल पिसी हुई या कुटी हुई अलसी ही कब्ज से राहत देती है| अलसी को किसी रस; जैसे संतरे के रस या पानी के साथ लेना चाहिए, जिससे आपको कब्ज से आसानी से छुटकारा मिल जाएगा|

आवश्यक सामग्री:

विधि 3.आवश्यक सामग्री

  • पिसी अलसी– एक छोटा चम्मच
  • पानी – एक कप (250 mlमिली0)

पिसी हुई अलसी को पानी में मिलाइए और इसे घुलने दीजिये

पानी में पिसी हुई अलसी मिलाइए

  • एक कप पानी में एक छोटे चम्मच पिसी अलसी मिलाइए और इसे दो से तीन घंटों के लिए रख दीजिये, फिर इसका सेवन कीजिये|

अलसी पांच घंटों में ही अपना असर दिखाने लगती हैं| आप सोने से पहले इसका सेवन कीजिये|

अथवा आप रोटी बनाते समय आटे में दो से तीन छोटे चम्मच पिसे अलसी मिला सकती हैं|

इस मिश्रण का सेवन कीजिये
पुरानी कब्ज से छुटकारा पाने लिए अलसी के मिश्रण का सेवन करें

विधि 4: ब्लैकस्ट्रैप मोलासेस (काला शीरा या राब) का इस्तेमाल

जब गन्ने के रस से चीनी बनायी जाती है, तो इस प्रक्रिया में रस को तीसरी बार उबालने पर जो शीरा प्राप्त होता है, उसे ब्लैकस्ट्रैप मोलासेस (काला शीरा या राब) कहते हैं| इसमें मैग्नीशियम, अन्य खनिज और विटामिन अधिक मात्रा में पाए जाते हैं, जो कब्ज से राहत देते हैं|

ब्लैकस्ट्रैप मोलासेस (काला शीरा या राब) का स्वाद कुछ कड़वा होता है| इसलिए किसी पेय पदार्थ में मिलाकर इसका सेवन कीजिये| आप ब्लैकस्ट्रैप मोलासेस (काला शीरा या राब) को पानी, ग्रीन टी, अनाज या मिठाई के साथ ले सकते हैं| इसे शहद या रस के साथ लेने से यह बहुत फायदा करता है|

आवश्यक सामग्री:

विधि 4. आवश्यक सामग्री

  • ब्लैकस्ट्रैप मोलासेस (काला शीरा या राब) – एक छोटा चम्मच
  • गर्म पानी – एक गिलास

ब्लैकस्ट्रैप मोलासेस (काला शीरा या राब) को गर्म पानी में मिलाइए

गर्म पानी और ब्लैकस्ट्रैप मोलासेस (काला शीरा या राब) का मिश्रण

एक छोटे चम्मच ब्लैकस्ट्रैप मोलासेस (काला शीरा या राब) को एक गिलास गुनगुने पानी में अच्छे से मिलाइए|

कब्ज से निजात पाने और मलत्याग को सामान्य बनाने के लिए दिन में तीन बार शीरे के पानी का सेवन कीजिये|

Advertisements
ब्लैकस्ट्रैप मोलासेस (काला शीरा या राब) का मिश्रण
कठिन से कठिन कब्ज से छुटकारा पाने लिए ब्लैकस्ट्रैप मोलासेस (काला शीरा या राब) के मिश्रण का सेवन करें

विधि 5: कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल

कब्ज से छुटकारा पाने के लिए कैस्टर ऑयल को एक बहुत अच्छा नुस्खा माना जाता है| यह आँतों को सिकोड़ देता है, जिससे मलत्याग के द्वारा शरीर के खराब पदार्थ बाहर निकल जाते हैं|

कब्ज में कैस्टर ऑयल का सेवन करें
कैस्टर ऑयल के सेवन से कब्ज का इलाज करें
  • कब्ज से राहत पाने के लिए आप एक से दो छोटे चम्मच कैस्टर ऑयल का सेवन कीजिए| यदि आपको इसका स्वाद कड़वा लगता है, तो आप इसे किसी जूस के साथ मिलाकर भी ले सकते हैं|
  • यह छह से बारह घंटों में अपना असर दिखाना शुरू कर देता है|

कैस्टर ऑयल कब्ज का एक रामबाण इलाज है, इसलिए इसकी उचित खुराक का ही सेवन करें|

नोट:

  • दिन में जितने बार कैस्टर ऑयल का सेवन करने के लिए बताया गया है, उतने ही बार इसका सेवन करें क्योंकि इसके अधिक सेवन से साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं|
  • लगातार सात दिनों से ज्यादा कैस्टर ऑयल का सेवन नहीं करना चाहिए| यदि साइड इफेक्ट बहुत अधिक गंभीर हो गए हैं, तो तुरंत कैस्टर ऑयल का सेवन बंद कर दीजिये और अपने डॉक्टर से मिलिए|

गर्भवती महिलाओं को कब्ज से राहत पाने के लिए कभी भी कैस्टर ऑयल का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि प्राचीन समय से प्रसव पीड़ा (लेबर पेन) को कम करने के लिए कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल किया जाता रहा है| गर्भावस्था के दौरान कैस्टर ऑयल के सेवन से गर्भाशय में सिकुड़न आ सकती है|

विधि 6: दही (योगर्ट) का इस्तेमाल

यदि आपको कब्ज के साथ-साथ पेट में दर्द भी हो रहा है, तो आप दही से इसका भी इलाज कर सकते हैं| दही में प्रोबायोटिक्स पाए जाते हैं, जो पाचन में सहायक हैं और पेट को दुरुस्त बनाये रखते हैं| दही पेट को साफ़ करता है और खराब पदार्थों को पेट में जमा नहीं होने देता है|

दही का सेवन कीजिये
दही के सेवन से पुरानी कब्ज का रामबाण इलाज
  • नियमित रूप से दही का सेवन कब्ज, पेट फूलने और दर्द से निजात दिलाने में सहायक है|
  • खाने के साथ दही का सेवन करना बेहतर रहता है|

विधि 7: अंजीर का इस्तेमाल

अंजीर में अधिक मात्रा में फाइबर पाया जाता है और यह एक नैचुरल लैक्सेटिव की तरह काम करता है| कई लोगों को लगातार कब्ज की समस्या बनी रहती है, लेकिन वे इसका सही इलाज नहीं ढूंढ पाते हैं| इस तरह के कब्ज के लिए अंजीर बहुत फायदेमंद होता है| अंजीर को ताजा या सुखाकर दोनों प्रकार से खाया जा सकता है| बाजार में सूखा अंजीर आसानी से मिल जाता है|

एक छोटे सेब या संतरे के मुकाबले एक सूखे अंजीर में अधिक फाइबर पाया जाता है|

  • यदि आप ताजे अंजीर का सेवन कर रहे हैं, तो इसे छिलके के साथ लीजिये क्योंकि इसमें पाए जाने वाले फाइबर का अधिकांश भाग छिलके में ही पाया जाता है|

अंजीर में घुलनशील और अघुलनशील दोनों प्रकार के फाइबर काफी अधिक मात्रा में पाए जाते हैं| अघुलनशील फाइबर मलत्याग को सरल बनाते हैं| जबकि घुलनशील फाइबर में वसीय अम्ल पाए जाते हैं, जो भोजन को पेट में लम्बे समय के लिए रखे रहते हैं और उचित ढंग से पाचन में सहायक होते हैं| इससे अपच का ख़तरा कम हो जाता है|

आवश्यक सामग्री:

विधि 7. आवश्यक सामग्री

  • सूखी हुई अंजीर – एक मुट्ठी
  • पानी

अंजीर को रातभर के लिए पानी में भिगो दीजिये

पानी में अंजीर भिगोएँ

  • कटोरे में एक मुट्ठी अंजीर (चार से छह) ले लीजिये|
  • फिर कटोरे में अंजीर को डुबोने के लिए पर्याप्त पानी डालें|
  • अब अंजीर को पूरी रात भीगने दीजिये|
  • अगली सुबह इसमें से पानी निकाल दीजिये|
  • भीगे हुए अंजीर को खाली पेट खाइए|
अंजीर का सेवन करें
अंजीर के सेवन से कब्ज से पाएं छुटकारा

कुछ दिनों तक लगातार इसके सेवन से धीरे-धीरे मलत्याग सामान्य रूप से होने लगेगा|

विधि 8: नमक के पानी का इस्तेमाल

पानी में एक छोटा चम्मच सेंधा नमक अच्छे से मिलाइए
सेंधा नमक के मिश्रण से कब्ज का इलाज करें

नमक एक प्राकृतिक लैक्सेटिव की तरह कार्य करता है| नमक के पानी का सेवन आपको कब्ज से राहत देने में काफी कारगर हो सकता है| आपका शरीर नमक के पानी को ग्रहण नहीं कर पाता है| जिसके परिणामस्वरुप यह आपके शरीर से बाहर निकल जाता है| इससे मलत्याग आसानी से हो जाता है और कब्ज के लक्षणों में राहत मिलती है|

यदि आप नमक का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो सेंधा नमक (हिमालय-नमक) का चयन कीजिये|

  • एक गिलास पानी में एक छोटा चम्मच सेंधा नमक मिलाइए और अच्छे से हिलाइए|

सुबह खाली पेट नमक के पानी का सेवन करना सबस अच्छा रहता है| इससे पेट नहीं फूलेगा और मिचली नहीं आएगी तथा आपका पेट भी आसानी से साफ़ हो जाएगा|

सुझाव

  • नींबू का रस शरीर के लिए बहुत अच्छे टॉनिक का काम करता है और कब्ज से निजात पाने के बाद भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं| यह आपके शरीर में पानी की पर्याप्त मात्रा बनाये रखेगा, आपके प्रतिरक्षा तंत्र (इम्यून सिस्टम) को मजबूत बनाएगा और शरीर का pH स्तर नियंत्रण में रखेगा| इससे आपका वजन भी आसानी से कम हो जाएगा और आपकी त्वचा में निखार आएगा|
  • यदि आप अलसी का उपयोग कर रहे हैं, तो आप इसे ब्लेंडर में पीस सकते हैं| पहले से पिसी रखी अलसी का इस्तेमाल न करें क्योंकि इनसे तेल निकलने लगता है और कुछ घंटे रखने पर यह ख्जराब हो जाती है| हमेशा ताजी पिसी अलसी का ही इस्तेमाल करें|
  • कैस्टर ऑयल के सेवन से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें| यदि आप पहले से किसी दवा का सेवन कर रहे हैं तो डॉक्टर को अवश्य बताएं|
  • एक दिन में कम-से-कम आठ गिलास पानी पीने की आदत डालें|
  • बहुत पहले से तैयार रखे खाने को न खाएं| प्रतिदिन तीस मिनट व्यायाम करें| इससे आपका शरीर स्वस्थ रहेगा|
Advertisements