हर माँ-बाप चाहते हैं कि उनका बच्चा स्वस्थ और खुश रहे| इसी ख़ुशी की तलाश में वे अपने बच्चे के लिए कुछ भी कर सकते हैं|

लेकिन आप चाहे कितनी भी कोशिश कर लें| कभी न कभी आपको कुछ समस्याओं; जैसे शिशुओं में डायपर से पड़ने वाले रैश आदि का सामना करना ही पड़ता है| डॉक्टर की भाषा में इसे डायपर डर्मेटाइटिस कहा जाता है|

Advertisements

यह वह स्थिति है, जब शिशुओं में डायपर के आस पास की त्वचा में खुजली होती है और यह त्वचा लाल पड़ जाती है| कभी-कभी ये डायपर रैश हल्के होते हैं| हल्के डायपर रैश में केवल लाल निशान बनते हैं और कभी-कभी ये डायपर रैश काफी अधिक फ़ैल जाते हैं| तब शिशु की त्वचा में लाल उभार (चकत्ते) बन जाते हैं, जो बच्चे के पेट और जांघों तक में फ़ैल सकते हैं|

डायपर रैश से छुटकारा पाने के घरेलू उपचार

प्रायः डायपर के किनारों की त्वचा में खुजली और लाल निशानों/चकत्तों को ही डायपर रैश कहा जाता है|

डायपर रैश के कुछ सामान्य कारण, लक्षणों और उपचारों को ध्यानपूर्वक पढ़िए| इन उपचारों को अपनाकर आप रात भर में डायपर रैश हटा सकते हैं|

Advertisements

Contents

डायपर रैश के कारण और लक्षण

  • अगर लम्बे समय तक बच्चे का डायपर गीला है, तो मल-मूत्र करने में खुजली
  • बच्चे के खान-पान में बदलाव
  • यीस्ट इन्फेक्शन (संक्रमण)
  • संवेदनशील त्वचा
  • बहुत अधिक कसा डायपर पहनाना
  • बच्चे या माँ के द्वारा ली जाने वाली एंटीबायोटिक
  • खुशबूदार बेबी वाइप्स, लोशन का इस्तेमाल और जननांगों को साफ़ करने के लिए साबुन का इस्तेमाल

लेकिन अब आपको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है, आप इन डायपर रैश को सरल घरेलू उपचारों के इस्तेमाल से कुछ ही घंटों में आसानी से हटा सकते हैं| आप रैश पर नियमित नजर बनाये रखिये| यदि इन घरेलू उपचारों के इस्तेमाल के दो से तीन दिनों में रैश कम नहीं होते हैं और निम्न लक्षण दिखाई पड़ते हैं, तो आपको अपने डॉक्टर के पास जाना चाहिये :

  • डायपर के किनारों की त्वचा में दाने, छाले, घाव या पपड़ी बन जाना
  • बुखार
  • जननांगों में लाल निशान पड़ जाना
  • डायपर के किनारों की त्वचा में सूजन आ जाना
  • डायपर के किनारों की त्वचा से मवाद या पानी आना
  • यदि त्वचा के मुड़ने के स्थान पर रैश हो गए हैं, तो यह यीस्ट इन्फेक्शन हो सकता है|
  • अगर रैश की स्थिति और भी खराब होती जा रही है या ये शरीर के अन्य भागों में फ़ैल रहे हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिये|

डायपर रैश की रोकथाम कैसे करें

निम्न तरीकों को अपनाकर आप शिशुओं में पड़ने वाले डायपर रैश की रोकथाम कर सकते हैं|

  • डायपर बदलने के पहले और बाद में अपने और बच्चे (घुटने के बल चलने वाले बच्चे) के हाथों को अच्छी तरह से धोएं|
  • डायपर के सूखकर कड़े हो जाने से पहले ही इसे बदल दें| हर दो घंटे में यह देखते रहें कि डायपर अधिक गीला तो नहीं हो गया है|
  • नया डायपर पहनाने से पहले शिशु की त्वचा को पांच से दस मिनट के लिए खुला छोड़ दें| लेकिन यह ध्यान रखें कि शिशु किसी सुरक्षित जगह ही लेटा है|
  • कपड़े की नैपी को सौम्य डिटर्जेंट से धोकर पानी से दो बार साफ करें| नैपी को धोने के लिए ब्लीच का इस्तेमाल न करें|
  • अगर आप कपड़े के डायपर का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो इसके ऊपर प्लास्टिक पैंट न पहनाएं क्योंकि ये पैंट त्वचा को सूखने नहीं देती हैं और रैश होने की संभावना बढ़ जाती है|
  • अगर बच्चे को दस्त हो गए हैं, तो डायपर के किनारों की त्वचा पर क्रीम; जैसे डेसिटिन, डायपेरेन, ए एंड डी ऑइनमेंट और जिंक ऑक्साइड लगा दें| इससे त्वचा पर बैक्टीरिया जमा नहीं हो पाएंगे और रैश होने का खतरा कम हो जायेगा| इनमें से किसी भी क्रीम का इस्तेमाल करने से पहले बच्चों के डॉक्टर से अवश्य मिलें|

डायपर रैश को खत्म करने के घरेलू उपचार

कुछ घरेलू उपचारों के इस्तेमाल से आप गंभीर डायपर रैश तक को खत्म कर सकते हैं| इन उपचारों में रसोई में प्रयोग किये जाने वाले पदार्थों का ही इस्तेमाल किया गया है|

किसी भी उपचार के इस्तेमाल से पहले निम्न कार्य कर लें :

  • गंदे डायपर को निकालकर कूड़ेदान में डाल दें|
  • अब डायपर पहनने वाली त्वचा को गुनगुने पानी से धो दें| पानी की गर्माहट भी त्वचा को आराम पहुंचाती है|
  • अब त्वचा को एक मुलायम तौलिया से पोछकर खुला छोड़ दीजिये|
नोट: थोड़े बड़े बच्चों के लिए भी यही उपचार इस्तेमाल किये जा सकते हैं|

रातभर में डायपर रैश से आराम पाने के लिए 11 घरेलू नुस्खों पर एक नजर डालिए|

विधि 1: कॉर्नस्टार्च (मकई का आटा)

डायपर रैश वाली जगह पर कॉर्नस्टार्च का छिडकाव करने से आप आश्चर्यजनक बदलाव देखेंगे| कॉर्नस्टार्च त्वचा की अतिरिक्त नमी को सोख लेता है और बच्चे को डायपर से लगने वाली रगड़ से बचाता है|

Advertisements

कॉर्नस्टार्च एक बहुत अच्छा अवशोषक है| इसे बेकिंग सोडा के साथ इस्तेमाल करने से शरीर की दुर्गन्ध से छुटकारा पाया जा सकता है|

नोट: अगर बच्चे को डायपर रैश; यीस्ट इन्फेक्शन (संक्रमण) के कारण हुए हैं, तो कॉर्नस्टार्च का इस्तेमाल न करें|

कॉर्नस्टार्च को डायपर रैश वाली त्वचा पर छिड़किये

डायपर रैश वाली त्वचा पर कॉर्नस्टार्च छिड़किये
डायपर रैश खत्म करने का आसान घरेलू उपाय है कॉर्नस्टार्च
  • डायपर रैश वाली त्वचा को साफ़ कर लीजिये और हल्का-सा कॉर्नस्टार्च छिड़किये| आप कॉर्नस्टार्च को पाउडर के एक खाली डिब्बे में भरकर रख सकते हैं|
  • अब नया डायपर पहना दीजिये|

कॉर्नस्टार्च; डायपर रैश को रातभर में ही ठीक कर देता है| हर बार नया डायपर पहनाने से पहले त्वचा पर कॉर्नस्टार्च छिड़कने की आदत बनाइये|

विधि 2: नारियल तेल

नारियल तेल में त्वचा के लिए आवश्यक वसीय अम्ल पाए जाते हैं, जो न केवल त्वचा को पोषण प्रदान करते हैं, बल्कि ये त्वचा के लिए एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल का काम करते हैं| यीस्ट इन्फेक्शन के कारण त्वचा पर रैश होने पर यह उपचार काफी प्रभावी होता है| बच्चे की कोमल त्वचा पर इस्तेमाल के लिए आपको शुद्ध नारियल तेल उपयोग करना चाहिए| यह तेल न केवल डायपर रैश को ठीक करता है, बल्कि त्वचा को आराम भी पहुंचाता है|

नारियल तेल से डायपर रैश पर मालिश कीजिये

डायपर रैश पर नारियल तेल से हल्के हाथों से मालिश कीजिये
नारियल तेल; डायपर रैश खत्म करने का एक अच्छा घरेलू नुस्खा है
  • उँगलियों पर थोड़ा-सा नारियल तेल लेकर डायपर रैश पर हल्के हाथों से मालिश कीजिये|
  • जब त्वचा तेल को पूरी तरह से ग्रहण कर ले, तब नया डायपर पहना दीजिये|

डायपर रैश से छुटकारा पाने के लिए आप जिनते भी बार डायपर बदलें, उतने बार त्वचा पर नारियल तेल लगायें| ऐसा करने से डायपर रैश एक ही रात में खत्म हो जायेंगे|

Advertisements

विधि 3: भुना हुआ आटा

भुने हुए आटे को बेबी पाउडर की जगह इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि बाजार में मिलने वाले पाउडर में अप्राकृतिक पदार्थ मिले होते हैं| भुना हुआ आटा काफी मोटा होता है और त्वचा इसे जल्द ही ग्रहण कर लेती है| यह आपके बच्चे की संवेदनशील त्वचा के लिए एक सौम्य पाउडर होता है|

नोट: इस उपचार का इस्तेमाल करने से पहले बच्चों के डॉक्टर से सलाह अवश्य ले लें| अगर आपके बच्चे को गेहूँ से एलर्जी है, तो आप इस विधि का उपयोग न करें|

एक कढ़ाई में सफ़ेद आटे को भूंज लें और इस्तेमाल करें

सफ़ेद आटे को एक कढ़ाई में भूंज लें
भुना हुआ आटा डायपर रैश को ठीक करने का एक सरल घरेलू उपचार है
  • एक कढ़ाई को इंडक्शन या गैस पर चढ़ा दें, आंच मध्यम रखें|
  • कढ़ाई के गर्म हो जाने पर इसमें एक कप (लगभग 200 ग्राम) सफ़ेद आटा डालें|
  • इसे 10 से 20 सेकंड तक कल्छी से चलाते रहें, जिससे आटा जले नहीं और इसमें किसी भी प्रकार की गाँठ न बने|
  • 15 से 20 मिनट तक या जब तक आटा हल्के भूरे रंग का नहीं हो जाता, इसे चलाते रहें|
  • इसे हल्के भूरे रंग का हो जाने के बाद गैस बंद कर दें और इसे ठंडा होने दें|
  • अब इसे एक हवाबंद/एयरटाइट डिब्बे में भर लें|

डायपर रैश से छुटकारा पाने के लिए हर बार डायपर बदलने पर आप इसे बेबी पाउडर की तरह इस्तेमाल कीजिये| भुने हुए आटे के इस्तेमाल से डायपर रैश को एक दिन में ही खत्म किया जा सकता है|

विधि 4: माँ का दूध

एक बच्चे के लिए माँ के दूध से सुरक्षित कुछ हो ही नहीं सकता| माँ के दूध में एंटीबैक्टीरियल गुण पाया जाता है, जो बच्चे को कई प्रकार के इन्फेक्शन से बचाता है और बच्चे की त्वचा की सूजन कम करने में भी सहायक है| यहाँ तक कि जब डायपर रैश कम करने की बात आती है, तो माँ का दूध किसी भी दवा से कहीं ज्यादा बेहतर होता है| यह उपचार पूरी तरह से प्राकृतिक है|

माँ के दूध को रैश वाली त्वचा पर लगाइए

रैश वाली त्वचा पर माँ का दूध लगाइए
माँ का दूध डायपर रैश से छुटकारा दिलाकर बच्चे को सबसे अच्छा पोषण प्रदान करता है
  • गंदे डायपर को हटा दें और त्वचा को साफ करके मुलायम तौलिया से हल्के हाथों से पोछ दें|
  • थोड़े-से माँ के दूध को रैश वाली त्वचा पर लगाइए| इसे त्वचा में पूरी तरह से सूख जाने दीजिये और फिर नया डायपर पहना दीजिये|

डायपर रैश से छुटकारा पाने के लिए हर बार डायपर बदलते समय इस घ्जरेलू उपचार का इस्तेमाल कीजिये|

विधि 5: घर पर बनी क्रीम

अगर आप बच्चे के लिए बाजार में मिलने वाले उत्पादों का इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं, तो आप बच्चे को डायपर रैश से छुटकारा दिलाने के लिए घर पर ही क्रीम बना सकते हैं| इस विधि में इस्तेमाल किये जाने वाले पदार्थ बच्चे की त्वचा के लिए काफी अच्छे होते हैं और बिना सोच-विचार के बच्चे की त्वचा पर इस क्रीम का इस्तेमाल किया जा सकता है| आप नारियल तेल, बीज़्वैक्स और लैवेंडर तेल से शिशु के लिए घर पर ही बेबी लोशन भी बना सकते हैं|

आवश्यक सामग्री :

Advertisements

घर पर डायपर रैश क्रीम बनाने के लिए आवश्यक सामग्री

  • बीज़्वैक्स (मधुमोम) (त्वचा को सुरक्षा कवच प्रदान करती है) – एक बड़ा चम्मच (लगभग 15 ग्राम)
  • नारियल तेल (एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल) – आधा कप (लगभग 130 मिली0)
  • लैवेंडर तेल (सूजन खत्म करता है) – दो से तीन बूँदें
  • नॉन नैनो जिंक ऑक्साइड पाउडर (त्वचा को वाटरप्रूफ बनाता है) – एक छोटा चम्मच (लगभग 5 ग्राम)

1. बीज़्वैक्स और नारियल तेल को डबल बॉयलर में डाल लें

नारियल तेल और बीज़्वैक्स को डबल बॉयलर में पिघला लें

  • डबल बॉयलर पर एक हीट सेफ बाउल रखिये|
  • आप घर पर बड़ी आसानी से बहुत कम समय में डबल बॉयलर बना सकते हैं|
  • इस बाउल में एक बड़ा चम्मच बीज़्वैक्स डालिए|
  • अब इसमें आधा कप नारियल तेल मिलाइए|
  • इन्हें धीमी आंच पर पिघलने दीजिये और अच्छे से मिला लीजिये| फिर गैस से उतार दीजिये|

2. इसमें जिंक ऑक्साइड और लैवेंडर तेल मिलाइए

इसमें लैवेंडर तेल और जिंक ऑक्साइड मिलाइए

  • मिश्रण को धीरे-धीरे लगातार चलाते हुए इसमें नॉन नैनो जिंक ऑक्साइड पाउडर मिलाइए| इसे लगातार चलाते रहने से इसमें गांठें नहीं बनेंगी|
  • अब इसमें लैवेंडर तेल की दो से तीन बूँदें डालिए|
  • मिश्रण को अच्छी तरह से फेंट लें|

3. तैयार क्रीम को एक डिब्बी में भर लें

डायपर रैश खत्म करने वाली क्रीम का इस्तेमाल कीजिये
यह क्रीम बच्चे की त्वचा के लिए काफी सौम्य होती है
  • तैयार क्रीम को एक छोटी खाली हवाबंद/एयरटाइट डिब्बी में भर लें|

प्रतिदिन हर बार डायपर बदलते समय इस क्रीम को रैश वाली त्वचा पर लगायें|

विधि 6: अंडे का सफ़ेद भाग

डायपर रैश से छुटकारा पाने  के लिए अंडे के सफ़ेद भाग का इस्तेमाल किया जाता है| अंडे का सफ़ेद भाग त्वचा पर एक प्राकृतिक सुरक्षा कवच बना देता है, जिससे डायपर रैश जल्दी से ठीक हो जाते हैं| अगर आप अपने बालों को लंबा करना चाहते हैं या चेहरे के ब्लैक हेड्स हटाना चाहते हैं, तो भी अंडे के सफ़ेद भाग का इस्तेमाल कर सकते हैं|

अंडे के सफ़ेद भाग को डायपर रैश पर लगाइए

अंडे के सफ़ेद भाग का इस्तेमाल कीजिये
अंडे का सफ़ेद भाग बच्चे की त्वचा के लिए काफी अच्छा होता है
  • अंडे को 15 से 20 मिनट के लिए फ्रिज में रख दें|
  • फिर अंडे को फोड़कर इसके सफ़ेद भाग को एक कटोरी में निकाल लें|
  • हैण्ड ब्लेंडर की सहायता से झाग बनने तक इसे फेंट लें|
  • फिर बच्चे की डायपर रैश वाली त्वचा को गुनगुने पानी से धोकर एक मुलायम तौलिया से सुखा दें|
  • रैश पर हल्के हाथों से अंडे के सेफद भाग को लगाएं और इसे सूख जाने दें|

आप हर बार डायपर बदलते समय इस उपचार का इस्तेमाल कर सकते हैं|

विधि 7: सफ़ेद सिरका

शिशुओं में डायपर रैश को ठीक करने के लिए सेफद सिरके का इस्तेमाल किया जाता है| अगर रैश पर कवक (फंगस) जम गया है, तो सफ़ेद सिरका फंगस को खत्म कर देता है और भविष्य में होने वाले रैश से भी बचाता है| तौलिया या कपड़ों में से यीस्ट को खत्म करने के लिए आप डायपर आदि को भी सफ़ेद सिरके से धो सकते हैं| सिरका बदबू को खत्म कर देता है, जिससे नैपी से पेशाब की गंध नहीं आती है|

आवश्यक सामग्री :

  • एक मुलायम तौलिया
  • सफ़ेद सिरका (कीटनाशक) – एक बड़ा चम्मच (लगभग 15 मिली0)
  • पानी – दो कप (लगभग 500 मिली0)

डायपर के किनारे वाली त्वचा को सफ़ेद सिरके से पोछ दीजिये

सफ़ेद सिरके के इस्तेमाल से डायपर के किनारे वाली त्वचा को साफ़ कीजिये
डायपर रैश हटाने के लिए सफ़ेद सिरका एक आसान घरेलू उपचार है
  • दो कप पानी में एक बड़ा चम्मच सफ़ेद सिरका मिला लीजिये|
  • एक मुलायम तौलिया को मिश्रण में डुबोकर निचोड़ दीजिये|
  • अब डायपर बदलते समय इस तौलिया से डायपर रैश वाली जगह को पोछ दीजिये|

इस उपचार के दो से तीन दिन तक इस्तेमाल से बच्चे की त्वचा के डायपर रैश आसानी से खत्म किये जा सकते हैं|

विधि 8: बेकिंग सोडा

बेकिंग सोडा एक अच्छा क्षारक होता है| इसलिए यीस्ट के कारण होने वाले डायपर रैश को बेकिंग सोडा से ठीक किया जा सकता है| यह रैश वाली त्वचा का  pH स्तर नियंत्रित करने में सहायक है और बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकता है| बेकिंग सोडा मल और मूत्र के अम्लों को भी कम करता है| ये अम्ल भी डायपर रैश होने का कारण हो सकते हैं|

बच्चे के डायपर वाले भाग को बेकिंग सोडा से साफ़ कीजिये

बेकिंग सोडा से डायपर रैश वाली त्वचा को साफ़ कीजिये
बच्चे की त्वचा पर बेकिंग सोडा का इस्तेमाल एक सुरक्षित उपाय है
  • एक कप (लगभग 250 मिली0) गर्म पानी में दो बड़े चम्मच (लगभग 30 ग्राम) बेकिंग सोडा डालकर अच्छे से मिलाइए|
  • एक साफ़-मुलायम तौलिया को इस मिश्रण में भिगोइए| तौलिया को निचोड़कर इससे बच्चे के डायपर रैश को साफ़ कीजिये|
  • अब त्वचा को सूख जाने दीजिये और फिर नया डायपर पहना दीजिये|

हर बार डायपर बदलते समय इस उपचार का इस्तेमाल कीजिये|

अथवा आप एक टब गर्म पानी में आधा कप (लगभग 100 ग्राम) बेकिंग सोडा मिला लीजिये और बच्चे को इस पानी में दस मिनट तक बैठा दीजिये| डायपर रैश से जल्द छुटकारा पाने के लिए दिन में दो बार इस विधि का इस्तेमाल कीजिये|

नोट: अगर बच्चे को कहीं पर कट लग गया है या उसे कहीं पर घाव है, तो बेकिंग सोडा का इस्तेमाल न करें|

विधि 9: एप्सम साल्ट

अगर बच्चे को यीस्ट इन्फेक्शन (संक्रमण) हो गया है, तो आप एप्सम साल्ट के विलयन का इस्तेमाल कर सकते हैं| यह प्राकृतिक एंटीसेप्टिक की भांति कार्य करता है और इन्फेक्शन को खत्म कर देता है|

Advertisements

एप्सम साल्ट के विलयन का इस्तेमाल कीजिये

एप्सम साल्ट को पानी में घोलकर इस्तेमाल कीजिये
एप्सम साल्ट के इस्तेमाल से डायपर रैश आसानी से खत्म हो जायेंगे
  • एक कप (लगभग 250 मिली0) पानी में एक बड़ा चम्मच (लगभग 15 ग्राम) एप्सम साल्ट मिलाइए|
  • रुई में थोड़ा-सा विलयन लेकर रैश वाली त्वचा पर लगाइए|
  • अब विलयन को त्वचा पर सूख जाने दीजिये और फिर नया डायपर पहना दीजिये|
  • अथवा, आप एक टब में गर्म पानी भरकर इसमें एक कप (लगभग 200 ग्राम) एप्सम साल्ट मिला दीजिये और बच्चे को दस मिनट तक इसमें बैठा दीजिये| इसे दिन में दो से तीन बार इस्तेमाल कीजिये|

एप्सम साल्ट के इस्तेमाल से डायपर रैश दो से तीन दिनों में ही खत्म हो जायेंगे|

विधि 10: ओटमील (जई की दलिया)

ओटमील में एक प्रकार का प्रोटीन पाया जाता है, जो आपके बच्चे की कोमल और नाजुक त्वचा को आराम पहुंचाता है तथा त्वचा पर एक सुरक्षा कवच बनाता है| इसमें सपोनिंस नामक रासायनिक यौगिक पाया जाता है, जो त्वचा के रोमछिद्रों से गंदगी और अतिरिक्त तेल को हटाने का काम करता है|

बच्चे के नहाने के पानी में ओटमील मिलाइए

नहाने के पानी में ओटमील मिलाइए
ओटमील बच्चे की त्वचा को साफ़ करके आराम पहुंचाता है
  • बच्चे के नहाने के पानी में एक बड़ा चम्मच (लगभग 15 ग्राम) ओटमील डालकर अच्छे से मिलाइए|
  • अपने बच्चे को इस पानी में 10 मिनट तक बैठा दीजिये|

दिन में दो बार बच्चे को इस पानी से नहलाने पर डायपर रैश तीन दिन में खत्म हो जायेंगे|

विधि 11: मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड(मिल्क ऑफ़ मैग्नीशिया)

डायपर रैश खत्म करने के लिए मिल्क ऑफ़ मैग्नीशिया का इस्तेमाल किया जाता है| यह एंटासिड की भांति कार्य करता है, जो पेशाब के एसिड को बेअसर कर देता है| पेशाब का एसिड; रैश वाली त्वचा में जलन पैदा करता है|

डायपर रैश पर मिल्क ऑफ़ मैग्नीशिया लगाइए

मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड (मिल्क ऑफ़ मैग्नीशिया) को डायपर रैश पर लगाइए
मिल्क ऑफ़ मैग्नीशिया से डायपर रैश जल्दी खत्म हो जाते हैं
  • गंदे डायपर को निकाल दीजिये और त्वचा को साफ़ कर लीजिये|
  • अब त्वचा पर मिल्क ऑफ़ मैग्नीशिया लगाइए|
  • इसे त्वचा पर सूख जाने दीजिये और फिर नया डायपर पहना दीजिये|

डायपर रैश से छुटकारा पाने के लिए हर बार डायपर बदलने पर लगातार दो से तीन दिनों तक इस घरेलू उपचार  इस्तेमाल कीजिये| आपको एक दिन में ही असर दिखने लगेगा|

Advertisements