क्या आपके रक्तचाप का स्तर 140/90 से अधिक रहता है, तो आप उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं| इस अवस्था को हाइपरटेंशन भी कहा जाता है| उच्च रक्तचाप के उपचार से आप रक्तचाप को निम्न कर सकते हैं|

आजकल के युवाओं और वयस्कों में यह एक आम समस्या बन गयी है| रोग नियंत्रण एवं निवारण केंद्र के अनुसार विश्व में हर तीसरा व्यक्ति या 70 मिलियन लोग उच्च रक्तचाप से ग्रसित हैं|

Advertisements

हाइपरटेंशन के ऐसे कोई लक्षण भी नहीं होते हैं कि आप यह जान सकें कि आपका रक्तचाप उच्च होने वाला है| उच्च रक्तचाप के हानिकारक परिणाम देखने को मिलते हैं; जैसे ह्रदय रोग, डायबिटीज, ब्रेन ऐन्यरिज़म, किडनी खराब होना और दिमागी स्तर में कमी होना| वास्तव में, 15% लोगों की  मृत्यु उच्च रक्तचाप के कारण होती है|

बिना दवाओं के रक्तचाप को निम्न करें

डॉक्टर के द्वारा बताई गयी दवाएं आपके रक्तचाप को नियंत्रित कर सकती हैं, लेकिन इन दवाओं के कई साइड इफेक्ट भी होते हैं; जैसे चक्कर आना, पैरों की ऐंठन और अनिद्रा आदि| प्राकृतिक उपचारों का इस्तेमाल आपके स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित और उचित रहता है|

कई ऐसे प्राकृतिक उपचार मौजूद हैं, जो रक्तचाप को सामान्य करने में काफी सहायक होते हैं| यहाँ बिना दवाओं का उपयोग किये उच्च रक्तचाप के उपचार बताये जा रहे हैं|

Advertisements

विधि 1: नींबू का रस

आवश्यक सामग्री:

ब्लड प्रेशर कम करने के लिए आवश्यक सामग्री

  • नींबू – एक
  • पानी

एक गिलास पानी में नींबू निचोड़ लें

नींबू को पानी में निचोड़ें

  • एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़कर दिन में एक बार इसका सेवन करें| सुबह-सुबह खाली पेट इसका सेवन करना अच्छा रहता है|

नींबू धमनियों की कोमलता और लचीलेपन को बढ़ाकर धमनियों की भित्ति की कठोरता को कम करता है| इस प्रकार से रक्तचाप निम्न हो जाता है|

नींबू में अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट भी पाए जाते हैं, जो शरीर में मुक्त कणों (फ्री रेडिकल्स) के हानिकारक प्रभावों को बेअसर करने में सहायक हैं| नींबू में पोटैशियम भी पाया जाता है, जो शरीर में सोडियम के प्रभाव को कम करता है, जिससे ब्लड प्रेशर कम हो जाता है| उच्च रक्तचाप के उपचार से आप बीपी कम कर सकते हैं|

निम्न रक्तचाप के लिए नींबू के पानी का सेवन कीजिये
नींबू का पानी रक्तचाप को निम्न करने में काफी सहायक है

विधि 2: लहसुन

लहसुन में सल्फर के कई यौगिक जैसे; एलिसिन, डायलिल डिसुलफीडे और डायलिल ट्रिसुलफीडे पाए जाते हैं, जो शरीर के रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में सहायक हैं| ये यौगिक रक्त वाहिकाओं (धमनियों) को आराम पहुंचाकर नाइट्रिक ऑक्साइड के उत्पादन को बढ़ाते हैं, जिससे रक्तचाप नियंत्रण में रहता है|

Advertisements
निम्न रक्तचाप के लिए लहसुन का सेवन कीजिये
लहसुन का सेवन रक्तचाप को प्रभावी रूप से कम करता है
नोट: लहसुन को पकाने से इसमें पाया जाने वाला एलिसिन खत्म हो जाता है| इसलिए आपको बिना पके (कच्चे) लहसुन का ही सेवन करना चाहिए| एलिसिन एक एंटीबायोटिक होता है|

विधि 3: सेब का सिरका और बेकिंग सोडा

आवश्यक सामग्री:

सेब के सिरके से ब्लड प्रेशर कम करने के लिए आवश्यक सामग्री

  • सेब का सिरका – एक बड़ा चम्मच (लगभग 15 मिली0)
  • बेकिंग सोडा -  1/8 छोटी चम्मच (लगभग आधा ग्राम)
  • पानी

सेब के सिरके और बेकिंग सोडा को पानी में मिला लें

एक गिलास पानी में सेब के सिरके और बेकिंग सोडा को मिला लीजिये

सेब के सिरके में कैशियम, मैग्नीशियम, पोटैशियम और कई प्रकार के खनिज तत्व पाए जाते हैं, जो धमनियों की भित्तियों और शरीर के रक्त चाप पर कम दबाव बनाने में सहायक हैं| बेकिंग सोडा रक्तचाप कम करने के लिए शरीर के pH स्तर को बढ़ाता है|

Advertisements
  • एक गिलास पानी में एक बड़ा चम्मच सेब का सिरका और आधा ग्राम बेकिंग सोडा डाल दीजिये|
  • इन्हें अच्छे से मिलाकर एक मिश्रण तैयार कर लें|
  • उच्च रक्तचाप के उपचार का दिन में दो बार सेवन करें|
तैयार मिश्रण का सेवन करें
सेब के सिरके और बेकिंग सोडा से बना मिश्रण रक्त चाप को प्राकृतिक रूप से कम करता है

विधि 4: केला

केले के सेवन से उच्च रक्तचाप से छुटकारा पाया जा सकता है| केलों में अधिक मात्रा में पोटैशियम पाया जाता है, जो शरीर में सोडियम के प्रभाव को कम करता है| इस प्रकार से केला; शरीर के रक्तचाप को सामान्य रखता है| केले के सेवन से रक्तचाप का प्राकृतिक रूप से इलाज किया जा सकता है|

रक्तचाप निम्न रखने के लिए केला का सेवन कीजिये
केला का सेवन रक्तचाप को निम्न बनाये रखने में सहायक है
  • उच्च रक्तचाप के उपचार के लिए प्रतिदिन एक से दो केलों का सेवन कीजिये| यह उच्च रक्तचाप का एक घरेलू नुस्खा है|

सुझाव

  • निम्न रक्तचाप के लिए पहली चीज यह है कि आप नमक (सोडियम) का सेवन कम कर दीजिये|
  • अधिक-से-अधिक फलों और सब्जियों का सेवन कीजिये|
  • ऊपर बताये गए उच्च रक्तचाप के उपचार काफी कारगर साबित हुए हैं|
  • अल्कोहल और कैफीन का सेवन बिल्कुल भी न करें|
  • नियमित रूप से व्यायाम करके अपनी कमर के आकार को कम करें|
  • धूम्रपान न करें|
Advertisements