हल्दी हम सभी के घरों में आसानी से मिलने वाला मसाला है| घर में खाना पकाने से लेकर घावों में इन्फेक्शन फैलने से रोकने तक के लिए हल्दी का इस्तेमाल किया जाता है| लेकिन आप यह नहीं जानते होंगे कि सदियों से परम्परागत दवाओं में भी हल्दी का उपयोग होता रहा है|

गले की खराश के इलाज के साथ-साथ हल्दी त्वचा की रंगत को भी निखारती है, मुंहासों से छुटकारा दिलाती है और फेस पैक बनाने में भी हल्दी का उपयोग किया जाता है|

Advertisements

गले की खराश के लिए हल्दी का उपयोग

हल्दी में एक पॉलीफेनॉलिक यौगिक कुर्कुमिन पाया जाता है| यह सूक्ष्म जीवाणुओं को मारता है, त्वचा की जलन को खत्म करता है और कवक (फंगस) को भी मारता है| हल्दी का गहरा सुनहरा रंग कुर्कुमिन के कारण ही आता है|

2014 में बायोमेड रीसर्च इंटरनेशनल की समीक्षा में पेट की परेशानियों में कुर्कुमिन का सूक्ष्म जीवाणुओं को मारने और जलन को कम करने के गुण की पुष्टि हुई है|

कुर्कुमिन का रोगाणुओं से लड़ने का गुण सर्दी या फ्लू के कारण गले की खराश ठीक करने के लिए हल्दी को काफी उपयुक्त बनाता है| ध्यान रखिये कि आपको शुद्ध हल्दी पाउडर का ही इस्तेमाल करना है| मिलावटी हल्दी पाउडर का इस्तेमाल न करें|

Advertisements

यहाँ हम गले की खराश के लिए हल्दी के 6 घरेलू नुस्खे बता रहे हैं, जिनके इस्तेमाल से आपको गले की खराश की परेशानी से निजात मिल जायेगा|

Contents

विधि 1: हल्दी के पानी से गरारा

आप गर्म पानी में हल्दी और नमक डालकर गरारा कीजिये| यह मिश्रण गले की खराश को प्रभावी रूप से ठीक कर देता है| यह गले की खराश का इलाज होता है|

आवश्यक सामग्री:

हल्दी के पानी से गरारा करने के लिए आवश्यक सामग्री

  • हल्दी पाउडर (सूक्ष्म जीवाणुओं को मारता है) – आधा छोटा चम्मच (लगभग 3 ग्राम)
  • साधारण नमक (बैक्टीरिया को मारकर सूजन कम करता है) – एक छोटा चम्मच (लगभग 5 ग्राम)
  • गर्म पानी – एक कप (लगभग 250 मिली0)

हल्दी और नमक को गर्म पानी में मिलाकर गरारा कीजिये

गर्म पानी में हल्दी और नमक मिलाइए
हल्दी के पानी से गले की खराश का इलाज कीजिये
  • एक गिलास में एक कप गर्म पानी डाल लें|
  • इसमें हल्दी पाउडर और नमक डालें|
  • इन्हें अच्छे से मिलाकर तैयार मिश्रण से गरारा कीजिये|

आप दिन में दो बार- सुबह और शाम को इस मिश्रण से गरारा कर सकते हैं| गले की खराश को ठीक करने के लिए दो से चार दिनों तक लगातार इस उपचार का इस्तेमाल कीजिये| यह ध्यान रखिये कि हल्दी के पानी से गरारा करने के आधे घंटे बाद तक आप कुछ न खाएं, ताकि हल्दी और नमक अपना असर छोड़ सकें|

विधि 2: हल्दी का दूध

गले की खराश को ठीक करने के लिए हल्दी का दूध एक आयुर्वेदिक उपचार है| वास्तव में, सर्दियों के महीनों में प्रतिदिन हल्दी के दूध का सेवन करना चाहिए, ताकि आप सर्दी-खांसी से कोसों दूर रह सकें|

Advertisements

हल्दी का तैयार करने के लिए काली मिर्च का भी इस्तेमाल किया जाता है, जिससे आपका शरीर कुर्कुमिन को आसानी से ग्रहण कर लेता है| हल्दी का दूध गले की खराश के लिए काफी फायदेमंद होता है|

आवश्यक सामग्री:

हल्दी का दूध बनाने के लिए आवश्यक सामग्री

  • हल्दी पाउडर (सूक्ष्म जीवाणुओं को मारता है) – आधा छोटा चम्मच (लगभग 3 ग्राम)
  • काली मिर्च पाउडर (संक्रमण खत्म करता है) -  आधा छोटा चम्मच (लगभग 3 ग्राम)
  • दूध (गले में राहत पहुंचाता है) – एक कप (लगभग 250 मिली0)

हल्दी और काली मिर्च पाउडर को गर्म दूध में डालें

गर्म दूध में हल्दी और काली मिर्च पाउडर डालें
हल्दी का दूध गले की खराश से निजात दिलाने में सहायक है
  • एक कप दूध को गर्म कर लें| इसे हल्का ठंडा हो जाने दें|
  • अब इसे एक गिलास में पलट लें|
  • इसमें आधा-आधा छोटा चम्मच हल्दी पाउडर और काली मिर्च पाउडर डालें|
  • सभी सामग्रियों को अच्छे से मिला लें और तैयार हल्दी के दूध का धीरे-धीरे सेवन करें|

गले की खराश और कफ से निजात के लिए लगातार दो से तीन दिनों तक दिन में दो बार हल्दी के दूध का सेवन करें| यह गले की खराश का इलाज होता है|

Advertisements

विधि 3: हल्दी की चाय

आप गले की खराश से छुटकारा पाने के लिए हल्दी की चाय पी सकते हैं| इसमें शुद्ध शहद और नींबू का रस मिलाने से इसके फायदे बढ़ जाते हैं| हल्दी की चाय गले की खराश का एक घरेलू नुस्खा होती है|

आवश्यक सामग्री:

हल्दी की चाय बनाने के लिए आवश्यक सामग्री

  • हल्दी पाउडर (सूक्ष्म जीवाणुओं को मारता है) – आधा बड़ा चम्मच
  • शुद्ध शहद (सूजन खत्म करता है) – एक बड़ा चम्मच
  • नींबू का ताजा रस (बैक्टीरिया को मारता है) – आधा नींबू
  • पानी – दो कप (लगभग 500 मिली0)

1. पानी में हल्दी डालकर उबाल लें और छान लें

हल्दी को पानी में डालकर उबाल लें और छान लें

  • दो कप पानी को मध्यम आँच पर उबाल लें|
  • जब पानी में उबाल आ जाए, तो इसमें आधा बड़ा चम्मच हल्दी पाउडर डालकर अच्छे से मिलाएं|
  • अब हल्दी मिले पानी को चार से पांच मिनट तक उबलने दीजिये| फिर गैस बंद कर दीजिये|
  • अब इसे हल्का ठण्डा होने पर छन्नी की सहायता से एक कप में छान लें|

2. इसमें शहद और नींबू का रस मिलाकर सेवन करें

इसमें नींबू का रस और शहद मिलाकर सेवन करें
हल्दी की चाय गले की खराश में जल्द आराम देती है
  • इसमें एक बड़ा चम्मच शुद्ध शहद डालें|
  • अब इसमें आधा नींबू निचोड़ दें|
  • इन्हें अच्छे से मिलाकर तैयार चाय का सेवन करें|

गले की खराश ठीक करने के लिए दिन में दो से तीन बार हल्दी की चाय का सेवन करें| आपको पहली बार ही हल्दी की चाय के सेवन से फर्क महसूस होगा| यह गले की खराश का इलाज होता है|

विधि 4: हल्दी का सूप

हल्दी का सूप शरीर की पाचन क्रिया के लिए काफी अच्छा होता है| यह लगातार बनी रहने वाली गले की खराश में आराम पहुंचाता है तथा गले की खराश को कफ बनने से रोकता है|

Advertisements

इस सूप में आयुर्वेदिक पदार्थों का इस्तेमाल किया गया है; जैसे तुलसी, खड़ी काली मिर्च आदि| तुलसी में प्राकृतिक तेल जैसे कैम्फेन, ऑक्टेन, सीत्रोनेल्लोल आदि पाए जाते हैं, जो तुलसी को एक प्रभावी औषधि बनाते हैं| हल्दी शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को भी मजबूत बनाती है|

2017 में जर्नल ऑफ़ बायोएक्यूवेलेंस एंड बायोएवेलिबिलिटी में प्रकाशित तुलसी के फार्मेसोलॉजिकल एवोल्यूशन में बताया गया कि तुलसी अति सूक्ष्म जीवाणुओं को मारती है, कैंसर से रक्षा करती है और अन्य कई प्रकार की बीमारियों को ठीक करने में सहायक है| यह भी बताया गया कि तुलसी गले की खराश में प्रभावी रूप से काम करती है और गले के इन्फेक्शन (संक्रमण) से रक्षा करती है |

आवश्यक सामग्री:

हल्दी का सूप बनाने के लिए आवश्यक सामग्री

  • हल्दी पाउडर (सूजन कम करता है) – एक बड़ा चम्मच (लगभग 15 ग्राम)
  • अदरक, छोटे-छोटे टुकड़ों में काटी गयी (सूक्ष्म जीवाणुओं को मारती है) – एक इंच
  • लहसुन, छोटे-छोटे टुकड़ों में कटे हुए  – दो से तीन फांकियाँ
  • तुलसी की पत्तियां (अति सूक्ष्म जीवाणुओं को मारती हैं) – सात से आठ पत्तियां
  • खड़ी काली मिर्च (संक्रमण से बचाती है) – चार या पांच दाने
  • पानी – डेढ़ कप (लगभग 380 मिली)

1. पानी को गर्म करके हल्दी और अदरक मिलाएं

हल्दी और अदरक को गर्म पानी में डालें

  • एक बर्तन में डेढ़ कप पानी डालकर धीमी आँच पर गैस पर चढ़ा दें|
  • इसमें एक बड़ा चम्मच हल्दी पाउडर डालें|
  • फिर इसमें अदरक के टुकड़े डालें|

2. इसमें लहसुन, खड़ी काली मिर्च और तुलसी डालें

इसमें खड़ी काली मिर्च, तुलसी और लहसुन डालें

  • अब इसमें लहसुन डाल दें|
  • इसमें खड़ी काली मिर्च के चार से पांच दाने डालें|
  • इसमें तुलसी की सात से आठ पत्तियां भी डाल दें|
  • मिश्रण को अच्छी तरह से चला दें और इसमें उबाल आने दें|
  • बर्तन को एक ढक्कन से ढक दें और पानी के आधा बचने तक इसे पकाएं|

4. इसे छान लें और शहद मिलाकर सेवन करें

तैयार सूप को छान लें और शहद मिलाकर सेवन करें
गले की खराश के इलाज के लिए हल्दी के सूप का सेवन करें
  • सूप के पूरी तरह से पक जाने के बाद गैस बंद कर दें और इसे थोड़ा-सा ठण्डा होने दें|
  • अब तैयार सूप को एक कप या कटोरे में छान लें|
  • इसमें एक बड़ा चम्मच शहद मिलाकर धीरे-धीरे सूप का आनंद लें|

गले की खराश का इलाज करने के लिए लगातार तीन दिनों तक दिन में दो बार हल्दी के सूप का सेवन करें| आप हल्दी के सूप को अधिक मात्रा में बनाकर फ्रिज में रख सकते हैं| जब कभी भी आपको गले में खराश की परेशानी हो, तो एक कटोरी सूप को गर्म करके इसका सेवन कीजिये|

विधि 5:  अदरक, काली मिर्च और शहद के साथ हल्दी का सेवन

आप गले की खराश का इलाज करने के लिए हल्दी में अदरक, काली मिर्च और शहद मिलाकर एक हर्बल पेय बना सकते हैं|

आवश्यक सामग्री:

अदरक और शहद के साथ हल्दी के सेवन के लिए आवश्यक सामग्री

  • हल्दी पाउडर (सूक्ष्म जीवाणुओं को मारता है) – एक छोटा चम्मच (लगभग 5 ग्राम)
  • काली मिर्च पाउडर (संक्रमण खत्म करता है) – एक चौथाई छोटा चम्मच (लगभग 1 ग्राम)
  • शुद्ध शहद (सूजन खत्म करता है) – एक बड़ा चम्मच (लगभग 15 ग्राम)
  • अदरक, कद्दूकस की गयी (जलन कम करती है) – एक छोटी चम्मच (लगभग 5 ग्राम)
  • दूध (गले में राहत पहुंचाता है) – आधा कप (लगभग 130 मिली0)
  • पानी – आधा कप (लगभग 130 मिली0)

1. पानी को गर्म करके हल्दी, काली मिर्च और अदरक डालें

हल्दी, काली मिर्च और अदरक को गर्म पानी में डालें

  • एक बर्तन में आधा कप पानी निकालें और इसे धीमी आँच पर चढ़ा दें|
  • इसमें एक छोटा चम्मच हल्दी पाउडर डालें|
  • इसमें एक चौथाई छोटा चम्मच काली मिर्च पाउडर डालें|
  • फिर इसमें कसी हुई अदरक डाल दें|
  • इन्हें अच्छी तरह से मिला लें|

2. पानी में उबाल आने के बाद दूध मिलाएं

पानी उबलने के बाद इसमें दूध डालें

  • जब पानी उबलने लगे, तो इसमें आधा कप दूध डाल दें|
  • इसे अच्छे से चला लें और इसमें फिर से उबाल आने दें|

3. तैयार पेय को छान लें और शहद मिलाकर सेवन करें

पेय में शहद मिलाकर सेवन करें
हल्दी का पेय गले की खराश के लिए काफी लाभकारी होता है
  • गैस बंद कर दें और बर्तन को चूल्हे पर से उतार लें|
  • अब पेय को थोड़ा ठण्डा होने दें| फिर इसे छन्नी की सहायता से कप में छान लें|
  • इसमें एक बड़ा चम्मच शहद डालकर अच्छे से मिलाएं|

हल्दी के तैयार पेय को दिन में दो बार सेवन करें| इससे आपको सर्दी, खांसी के लक्षणों में आराम मिलेगा| यह गले की खराश का इलाज होता है|

Advertisements

विधि 6: हल्दी के साथ नारियल दूध और काली मिर्च का सेवन

यह गले की खराश के लिए एक प्राकृतिक उपचार है| नारियल दूध पर आधारित यह विधि दक्षिणी-पूर्वी एशिया से ली गयी है| नारियल दूध इस पेय को और भी पोषणकारी बनाता है तथा आपके शरीर को सर्दी और फ्लू खत्म करने के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है|

आवश्यक सामग्री:

हल्दी के साथ नारियल दूध के सेवन के लिए आवश्यक सामग्री

  • हल्दी पाउडर (सूक्ष्म जीवाणुओं को मारता है) – एक छोटा चम्मच (लगभग 5 ग्राम)
  • काली मिर्च,  कुटी हुई (संक्रमण खत्म करती है) – 1/8 छोटा चम्मच (लगभग आधा ग्राम)
  • शुद्ध शहद (सूजन खत्म करता है) – एक बड़ा चम्मच (लगभग 15 ग्राम)
  • नारियल दूध (प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बनाता है) – आधा कप (लगभग 130 मिली0)
  • पानी – एक कप (लगभग 250 मिली0)

1. पानी गर्म करके हल्दी और काली मिर्च डालें

हल्दी और कुटी हुई काली मिर्च को गर्म पानी में डालें

  • एक बर्तन में एक कप पानी डालें|
  • इसमें एक छोटा चम्मच हल्दी पाउडर डालें|
  • इसमें 1/8 छोटा चम्मच कुटी हुई काली मिर्च डालें|
  • मध्यम आँच पर पानी में उबाल आने दें|

2. इसे छानकर नारियल दूध और शहद मिलाएं

इसे छानकर शहद और नारियल दूध मिला लें
हल्दी और नारियल दूध के पेय का सेवन करें
  • जब इस पानी में उबाल आ जाए, तो गैस बंद कर दें और इसे हल्का ठंडा होने दें|
  • फिर इसे एक कप में छान लें|
  • अब इसमें आधा कप नारियल दूध डालें|
  • इन्हें अच्छे से मिलाकर इसका सेवन करें|

गले की खराश के घरेलू उपचार के लिए तैयार पेय का दिन में दो से तीन बार सेवन करें| यह गले की खराश का इलाज काफी प्रभाबी होता है|

सुझाव

  • गले में खराश होने पर हर बार खाना खाने के साथ सूप भी पियें| आप सूप में चुटकी भर हल्दी और काली मिर्च पाउडर भी मिला सकते हैं|
  • आप ताजी हल्दी को सुखाकर, पीसकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं|
Advertisements